Sun. Nov 27th, 2022

जो MP : सरकारी अधिकारी-कर्मचारियों गड़बड़ कर रहे हैं, उन्हें सबक सिखाएंगे : जीतू पटवारी

Share

इंदौर। कांग्रेस विधायक जीतू पटवारी, सांवेर से प्रत्याशी प्रेमचंद गुड्डू डीआईजी से मिलने पहुंचे। उनका आरोप था कि भाजपा द्वारा कहीं ना कहीं उपचुनाव को प्रभावित करने की कोशिश की जा रही है। प्रशासन सरकार की पूरी तरह मदद कर रहा है। हम उन सभी सरकारी अधिकारी-कर्मचारियों के नाम लिख रहे हैं जो गड़बड़ कर रहे हैं, इन सभी को एक-एक कर सजा मिलेगी।
पटवारी का कहना है कि सरकारी तंत्र नाैकराें की तरह काम कर रहा है। उनका कहना है कि उक्त मेडिकल काॅलेज कई मामलों में संदिग्ध है। उनके ऑनर कई बार जेल जा चुके हैं। कोविड को लेकर भी कई शिकायतें मिली हैं। जिसमें वे अवैध तरीके से मरीजों को भर्ती करते हैं और सरकारी लाभ लेते हैं। इसमें स्थानीय मंत्री की भी मिलीभगत है। हमारे पास इसके पूरे सबूत हैं। इस चुनाव में सरकारी तंत्र का पूरी तरह से गलत इस्तेमाल हो रहा है। रविवार को जो सरकारी तंत्र वहां इस काम के लिए बैठा था, हमने मामले में एफआईआर दर्ज करवाने आए हैं।

पटवारी ने चेतावनी देते हुए कहा कि मैं सरकारी कर्मचारियों को फिर से आगाह करना चाहता हूं कि एक भी गलत काम करते पकड़ाया तो उसे बख्शा नहीं जाएगा। हम सबके नाम लिखे जा रहे हैं। जो अपनी नौकरी और संविधान के विपरीत काम करेगा, उसे सजा मिलेगी। सरकार तो बनेगी, पर कोर्ट से भी सजा दिलाने में प्रेमचंद गुड्डू सक्षम हैं।

सिलावट फिर कोई चुनाव नहीं लड़ पाएंगे
पटवारी का कहना है कि भाजपा के पास कुछ कहने को है नहीं। उन्होंने लोकतंत्र की हत्या, वोट बेचकर सरकार गिराई और दूसरे की बनाई। जो रुपए उन्होंने लिए हैं, उसे बांटकर चुनाव जीतना चाहते हैं। जहां-जहां गड़बड़ कर रहे हैं, वहां हम दो-दो हाथ करेंगे। जनता सब जान चुकी है। तुलसी सिलावट आगे कोई चुनाव नहीं लड़ पाएंगे, जनता उनकी ऐसी हालत करके छोड़ देगी। वहीं, गुड्डू ने यह भी कहा कि भाजपा के कई वीडियो हमारे पास हैं, जो समय आने पर वायरल हो हो जाएंगे।

यह है मामला
रविवार को कांग्रेस प्रत्याशी प्रेमचंद गुड्डू निजी मेडिकल कॉलेज पंहुचे। कांग्रेस ने दावा किया कि यहां सांवेर विधानसभा क्षेत्र के बीएलओ, आरआई और पटवारी बैठकर मतदाता सूची में छह हजार फर्जी नाम जोड़ रहे थे। यहां मतदाता सूची में जोड़े जाने वाले नामों का फर्जी सत्यापन चल रहा था। दावा है कि गुड्डू को यह सूचना सुबह मिली। इसके बाद वे अपने साथियों के साथ कॉलेज पहुंच गए। यहां एक हॉल में 20 बीएलओ, आरआई और पटवारी बैठे थे। इसके साथ ही यहां करीब छह हजार मतदाता सूची में नाम जोड़ने के आवेदन भी पाए गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.