Sun. Dec 4th, 2022

राखी सावंत की रियल लाइफ स्टोरी … बचपन में खाया पड़ोसियों का फेंका खाना

Share

मुंबई। डांसर राखी सावंत 25 नवंबर को अपना बर्थडे सेलिब्रेट करती हैं। उनकी तगड़ी फैन फॉलोइंग है. आज उनके पास कोई कमी नहीं है. उनके पास नेम-फेम सबकुछ है. लेकिन ये बात बहुत कम लोग जानते हैं कि राखी का बचपन बहुत दर्द में गुजरा है.
राजीव खंडेलवाल के शो जज्बात में राखी ने अपने बचपन के बारे में बताया था. यहां उन्होंने बताया था कि बचपन में उन्हें कितनी दिक्कतों का सामना करना पड़ा था. बता दें कि राखी का असली नाम नीरू भेड़ा है. राखी ने अपने बचपन के बारे में बात करते हुए कहा था- ‘हाथ कांपते हैं मेरे राजीव. सच्चाई बताना दिल गंवारा नहीं करता. बहुत गरीबी मैंने देखी. इतनी गरीबी कि जब मैं मेरी मां के पेट में थी तो मेरी मां खाना ईंट-पत्थरों पर बनाती थी. इतने गरीब परिवार से हूं.’
आगे राखी ने कहा- ‘मां कहती हैं कि जब तुम छोटी थी तो हमारे पास खाना नहीं था. कहती हैं पड़ोसी लोग खाना फेंकते थे उसमें से तुम लोग खाना उठाकर खाते थे. मेरी मां हॉस्पिटल में आया थी. मुश्किल से खाना मिलता था.’
‘जब मैं बड़ी हुई तो मां को कहती थी कि मां मुझे स्कूल जाना है. तो वो कहती थी हां जाएंगे. मुझे अपनी हिस्ट्री बताना अच्छा नहीं लगता है.’ आगे अपने सपनों के बारे में बताते हुए राखी ने कहा था- ‘बचपन से ही मुझे एक्टिंग, डांस का बहुत शौक था. लेकिन मेरे खानदान में ये बिल्कुल पसंद नहीं था. मामा मुझे बहुत पीटते थे. क्योंकि मेरे खानदान में ये नहीं देखते कि खाना है या नहीं, लेकिन लड़की को नाचना नहीं चाहिए.’

‘मैंने अपनी पूरी जिंदगी में इतनी मार खाई है ना क्या बताऊं. मेरी पूरे शरीर पर टांके हैं. आगे बढ़ने के लिए. ऐसी परिस्थिति में मैं बड़ी हुई हूं. मेरे पापा मुंबई पुलिस में कान्सटेबल थे. मैं अपनी मेहनत से आई हूं.’ आगे राखी ने बताया- मेरा कोई गॉडफादर नहीं था. तो मैं इंडस्ट्री में कैसे आऊं. मैं क्या करूं. पढ़ाई नहीं थी. मुझे उस वक्त उतनी अक्ल नहीं थी. मेरे पेरेंट्स को तो बस ये ही था कि बच्चियां बड़ी हों और शादी कर दो. मैंने कहा मुझे शादी नहीं करनी. मैं घर से भाग गई थीं. मेरे पापा ने मुझसे रिश्ता तोड़ दिया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published.