Sun. Dec 4th, 2022

अब रोप-वे से 5 मिनट में पहुंच सकेंगे महाकाल के दरबार, 209 करोड़ हुए मंजूर; होंगी ये सुविधाएं

Share

उज्जैन । केंद्र सरकार इन दिनों बाबा महाकाल के भक्तों के लिए सौगात पर सौगात दे रही है. दो दिन पहले यानी 11 अक्टूबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बाबा महाकाल की नगरी उज्जैन में ‘महाकाल लोक’ का लोकार्पण कर इसे पूरे राष्ट्र को समर्पित कर गए. अब केंद्रीय भूतल परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने ट्वीट कर एक और खुशखबरी सुनाई है. उन्होंने उज्जैन रेलवे स्टेशन से महाकाल मंदिर तक 2 किलोमीटर लंबाई के रोप-वे के टेंडर को 209 करोड़ रुपए की लागत से मंजूरी दी है. इससे उज्जैन रेलवे स्टेशन से महाकाल मंदिर तक पहुंचने की दूरी महज 5 मिनट में तय हो जाएगी. केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने ट्वीट में इस बात की भी जानकारी दी है कि जुलाई 2023 से इसका निर्माण कार्य शुरु होगा. रोप-वे स्टेशन में लोगों के लिए फूड जोन, प्रतीक्षालय, शौचालय के साथ-साथ बस और कार पार्किंग की सुविधा मिलेगी.

बाबा महाकाल के भक्तों के लिए अनुपम सौगात
कलेक्टर उज्जैन आशीष सिंह ने हर्ष व्यक्त करते हुए बताया कि उज्जैन में आने वाले बाबा महाकाल के भक्तों के लिए यह एक और अनुपम सौगात है. हम लोग रेलवे अधिकारियों से समन्वय बैठाकर एक अच्छे स्थान का चयन कर रेलवे स्टेशन के समीप ही रोप-वे का स्टेशन बनाएंगे. साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि महाकाल मंदिर पहुंचने वाले रोप-वे का स्टेशन हम प्रशासक कार्यालय के पास स्थित खुली जगह पर बनाएंगे. रोपवे के बनने से महाकाल के भक्तों को सुविधा होगी और वह स्टेशन से महज 5 मिनट में सीधे महाकालेश्वर मंदिर पहुंच सकेंगे.

पूर्व में किया जा चुका है रोप-वे बनाने के लिए सर्वे
केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी द्धारा रेलवे स्टेशन से महाकाल मंदिर तक रोप-वे बनाने की सैद्धांतिक स्वीकृति दिए जाने के बाद शहर में इसका फिजिबिलिटी सर्वे किया जा चुका है. इसके लिए पूर्व में भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) ने कार्य योजना बनाना शुरु कर दिया था. बताया जाता है कि फिजिबिलिटी सर्वे के बाद ही नक्शा तैयार होगा. डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट बनेगी. पता चलेगा कि रोप-वे बनाने में कितना खर्च आएगा. रोप-वे की ऊंचाई कितनी होगी. बहरहाल, अभी रोप-वे के निर्माण के लिए 209 करोड़ रुपए की स्वीकृति दी गई है.

नितिन गडकरी ने निभाया अपना वचन
मालूम हो कि पांच महीने पहले केंद्रीय भूतल परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने मुख्यमंत्री के निवेदन पर इंदौर गेट रेलवे स्टेशन से महाकाल मंदिर तक एयर टैक्सी के रूप में रोप-वे बनवाने की घोषणा की थी. कहा था कि आप प्रस्ताव बनाकर भेजें, मैं वचन देता हूं कि मैं इसका निर्माण जरूर करूंगा. इस मामले में एनएचएआई के अफसर ने बताया था कि फिजिबिलिटी सर्वे के आधार पर ही देखा जाएगा कि स्टेशन से महाकाल मंदिर तक रोप-वे का रूट क्या हो सकता है. अधिकतम कितनी ऊंचाई रखी जा सकती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.