Tue. May 24th, 2022

Natvarlal ‘नटवरलाल’ : युवक ने 14 महिलाओं से की शादी, करोड़ों का फ्रॉड

– ओडिशा के केंद्रपाड़ा से 60 साल के शख्स को पुलिस ने किया अरेस्ट
– 7 साल के दौरान 14 महिलाओं से शादी और ठगी करने का आरोप
– भुवनेश्वर के पुलिस उपायुक्त के मुताबिक 1982 में पहली शादी की
– 2002 से 2020 के दौरान कई महिलाओं को झांसा देकर की शादी

भुवनेश्वर: ओडिशा में एक हैरान कर देने वाला मामला (Odisha Natwar Lal Story) सामने आया है। यहां पर पुलिस ने एक 60 साल के शख्स को गिरफ्तार किया है। इस आरोपी ने 48 सालों में 7 राज्यों की 14 महिलाओं के साथ शादी (Odisha Marriage Fraud News) की और उन्हें ठगा। केंद्रपाड़ा जिले (Kendrapara News) के पाटकुरा थानाक्षेत्रा के एक गांव के रहने वाला यह शख्स खुद को एक बड़ा अधिकारी बताकर लोगों और महिलाओं को अपने जाल में फंसाता था।
भुवनेश्वर के पुलिस उपायुक्त उमाशंकर दास ने बताया कि आरोपी ने 1982 में पहली शादी की थी। 2002 में उसने दूसरी शादी की। इन दोनों शादियों से उसे पांच बच्चे हुए। 2002 से 2020 तक उसने वैवाहिक वेबसाइटों के जरिए अन्य महिलाओं से दोस्ती की तथा पहली पत्नियों को बिना बताए इन महिलाओं से शादी की।

दिल्ली की टीचर ने दर्ज कराई शिकायत
पुलिस के अनुसार वह आखिरी पत्नी के साथ ओडिशा की राजधानी भुवनेश्वर में रह रहा था जो दिल्ली में एक विद्यालय में अध्यापिका है। पुलिस का कहना है कि इस महिला को पिछली शादियों का पता चल गया और उसने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई।

यह चीजें हुई बरामद
पुलिस ने बताया कि आरोपी मैट्रिमोनियल साइट्स पर अधेड़ उम्र की, अकेली या तलाकशुदा महिलाओं को अपना शिकार बनाता था। बाद में आरोपी महिलाों को छोड़ने से पहले उसके रुपये लेता था। पुलिस ने आरोपी के पास से 11 एटीएम कार्ड, चार आधार कार्ड और अन्य दस्तावेज जब्त किए हैं।
बैंक फ्रॉड में आपकी रकम हुई गायब, चिंता ना करें, यह कदम उठाएं

डेप्युटी डायरेक्टर जनरल बताता था आरोपी
पुलिस ने बताया कि आरोपी की पहचान रमेश चंद्र स्वैन उर्फ बिधू प्रकाश स्वैन उर्फ रमानी रंजन स्वैन के रूप में हुई है। वह खुद को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय में ‘डेप्युटी डायरेक्टर जनरल’ रैंक का अधिकारी बताता था।

इस तरह हुआ खुलासा
स्वैन ने 2018 में दिल्ली आर्य समाज में महिला से शादी की थी। बाद में, शिक्षक को पता चला कि आरोपी ने उसे धोखा दिया है, और शिकायत दर्ज की। यहां से पुलिस ने जांच शुरू की। जांच के दौरान पुलिस ने पाया कि स्वैन कोई अधिकारी नहीं है। वह फर्जी पहचान बताकर 14 महिलाओं के साथ पहले भी शादी कर चुका है।

रुपये और संपत्ति के लिए करता था शादी
पुलिस अधिकारी ने कहा कि पीड़ितों में वकील, शिक्षक, डॉक्टर और कई बड़ी शिक्षित और सपन्न परिवार की महिलाएं शामिल हैं। आरोपी की मकसद सिर्फ रुपया इकट्ठा करना और महिलाओं से शादी करने के बाद उनकी संपत्ति हासिल करना होता था।

CAPF महिला अधिकारी को भी बनाया शिकार
जांच के दौरान, पुलिस ने यह भी पाया कि स्वैन ने पंजाब में केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल (CAPF) की एक महिला अधिकारी से शादी की थी और उससे 10 लाख रुपये वसूले थे। डीसीपी ने कहा कि उसने गुरुद्वारे से 11 लाख रुपये की ठगी की, जहां सीएपीएफ अधिकारी के साथ विवाह समारोह आयोजित किया गया था।

बैंकों और नर्सिंग होम से भी ठगी
इससे पहले, स्वैन को केरल पुलिस ने 2006 में 13 बैंकों से करीब एक करोड़ रुपये की धोखाधड़ी करने के आरोप में गिरफ्तार किया था। मेडिकल कॉलेजों में प्रवेश देने का वादा करके कई छात्रों को धोखा देने के बाद उसे हैदराबाद पुलिस की एक टास्क फोर्स ने भी गिरफ्तार किया था। उसने हैदराबाद के एक नर्सिंग होम के मालिक समेत छात्रों से करीब 2 करोड़ रुपये वसूले थे।
प्रश्न- बॉलीवुड फिल्म चक दे इंडिया किस खेल पर केन्द्रित है?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *